Home गोरखपुर 5 रूपये में नाश्ता और 10 रूपये में भोजन कराएगा विश्वविद्यालय, जानें...

5 रूपये में नाश्ता और 10 रूपये में भोजन कराएगा विश्वविद्यालय, जानें और क्या लिए गए फैसले

262
0

5 रूपये में नाश्ता और 10 रूपये में भोजन कराएगा विश्वविद्यालय

 

गोरखपुर। बाँसगाँव सन्देश। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में पढने वाले विद्यार्थियों के साथ साथ जनसमुदाय को अब रियायती दर पर 5 रूपये में नाश्ता और 10 रूपये में भोजन की व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगी। अपने ब्रांड आंबेसडर पंडित दीनदयाल जी के अंत्योदय की विचारधारा से प्रभावित होकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने यह पहल की है।

सोमवार को कुलपति प्रो राजेश सिंह की अध्यक्षता में आयोजित कार्यपरिषद की बैठक में उक्त फैसले पर सहमति बनी है। इसे लेकर विश्वविद्यालय और अदम्य चेतना फाउंडेशन के बीच पूर्व में ही करार हो चुका है। इस एमओयू के अंतर्गत जल संरक्षण, जीरो गार्बेज कम्युनिटी किचन पर काम शुरू हो गया है। परिसर को हरा भरा और स्वच्छ रखने के नजरिए सेा विश्वविद्यालय प्रशासन ने गुटखा, तंबाकु, एल्कोहल के साथ साथ प्लास्टिक पर पूरी तरह से बैन लगा दिया है। अब अगर किसी विभाग, ऑफिस, सेक्शन, विभागाध्यक्ष में इसका उल्लंघन होगा तो संबंधित पर 500 रूपया का फाइन लगाया जाएगा। इसके साथ ही विश्वविद्यालय के अंदर लीगल सेल का पुनर्गठन हुआ है। प्रो अहमद नसीम, डॉ शिवपूजन सिंह और डॉ शैलेष कुमार सिंह इसके सदस्य होंगे। विश्वविद्यालय के अंदर इंफार्मेशन टेक्नोलॉजी एंड कम्यूनिकेशन प्रकोष्ठ आईटीसी सेल द्वारा कैंपस के अंदर सीसीटीवी कैमरा, बॉयोमेट्रिक्स तथा इंटरनेट कनेक्टिवटी पर कार्यदायी संस्था के माध्यम से कार्य चलने की जानकारी कार्यपरिषद को प्रदान की गई।

शिक्षकों और कर्मचारियों को मेडिक्लेम की सौगात

कार्यपरिषद की बैठक में शिक्षकों और कर्मचारियों को मेडिक्लेम का लाभ देने के प्रस्ताव को भी हरी झंडी मिल गई है। शिक्षकों को पांच लाख रूपये तक का मेडिक्लेम प्रदान किया जाएगा। जिसके प्रीमियम का 50 प्रतिशत भुगतान विश्वविद्यालय द्वारा वहन किया जाएगा। 50 प्रतिशत का भुगतान शिक्षक अपने वेतन से प्रतिमाह किश्तों में करेंगे। कर्मचारियों को 2 लाख का मेडिक्लेम प्रदान किया जाएगा।

 

पीआरओ कार्यालय में समाहित होगा सूचना कार्यालय

नई व्यवस्था के अंतर्गत विश्वविद्यालय का सूचना कार्यालय को पीआरओ कार्यालय में समाहित किया जाएगा। विभाग के अध्यक्ष मीडिया एवं जनसंपर्क अधिकारी होंगे। सूचना कार्यालय का नया कार्यालय प्रॉक्टर कार्यालय के भवन में होगा।

 

यूजी में सीबीसीएस पैटर्न को मंजूरी

कार्यपरिषद के सदस्यों ने यूजी में बीए, बीएससी, बीकॉम समेत अन्य स्नातक पाठ्यक्रमों को मंजूरी प्रदान कर दी है। सत्र 2021-22 में इसे लागू किया जाएगा। कोर्स के कार्यपरिषद से हरी झंडी मिलने के साथ ही विश्वविद्यालय प्रदेश का पहला ऐसा राज्यविश्वविद्यालय बन गया है जिसने यूजी, पीजी के साथ पीएचडी के कोर्स को सीबीसीएस पैर्टन पर तैयार कर दिया है।

 

नए शोध अध्यादेश को मंजूरी

कार्यपरिषद ने नए शोध अध्यादेश को भी मंजूरी प्रदान की है। इसके अंतर्गत अब विश्वविद्यालय एवं संबद महाविद्यालयों से पार्ट टाइम पीएचडी की राह आसान हो गई है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here