Bansgaon Sandesh

Bengali English Gujarati Hindi Kannada Punjabi Tamil Telugu
BANSGAON SANDESH

भारत माँ को आजाद कराने वाले रणबांकुरों की रही शरणस्थली खोपापार गाँव

बांसगांव संदेश न्यूज ऐप डाउनलोड करे – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.wordroid4.bansgaonsandesh

भारत माँ को आजाद कराने वाले रणबांकुरों की रही शरणस्थली खोपापार गाँव

 

छोटे गांधी के रूप में प्रसिद्ध थे पण्डित रामबली मिश्र 

गोला गोरखपुर।अशोक कुमार।आजादी की लड़ाई में गोरखपुर जिले के दक्षिणांचल में स्थित वर्तमान गोला तहसील क्षेत्र का खोपापार गाँव  ब्रिटिश हुकूमत में छोटा साबरमती के नाम से प्रसिद्ध था और पण्डित  रामबली  छोटे  गाँधी के रूप में प्रसिद्ध थे यह छोटा सा गाँव पूर्वांचल के राष्ट्रीय चेतना का केंद्र बिन्दु बन गया था। इस गांव में क्षेत्र के सभी वीर सपूत दिग्गज कांग्रेसी भारत माँ को स्वतंत्र कराने निकले जाबांज रणबांकुरे आश्रय पाते थे। परंतु आज आजादी मिलने के बाद भी इस गाँव में कुछ भी नहीं है। जिससे इन बलिदानियों के विषय में सही जानकारी मिल सके।अपने विकास की राह जोह रहा यह छोटा सा खोपापार गांव।

 

बताते चलें कि छोटे गाँधी के रूप में प्रसिद्ध  ब्रिटिश हुकूमत को हिलाने देने वाले पण्डित रामबली मिश्र का जन्म उरूवा ब्लाक के माल्हनपार के नजदीक भरवलिया गाँव में हुआ था ।बचपन में पिता के निधन के बाद उनकी माता जी अपने मायके खोपापार आ गयी और पिता के यहां आकर रहने लगी अपने को पीस हारिन का पुत्र कहने वाले श्री मिश्र की प्रारम्भिक शिक्षा बनवारपार  देईडीहा स्कूल से प्राप्त हुई मिडिल की शिक्षा गोला से प्राप्त हुई सन 1920 में जिला परिषदीय विद्यालय बारानगर में अध्यापक नियुक्त हुए ।परन्तु उस समय राजनैतिक हालात के परिणाम स्वरुप उनके मन में भी राष्ट्र प्रेम की तरंगे तरंगित हो उठी।

 देश को गुलामी की बेड़ियों से मुक्ति दिलाने के लिए सत्याग्रही बने पण्डित रामबली मिश्र

साइमन कमीशन जलियांवाला बाग हत्याकाण्ड तथा महात्मा गाँधी द्वारा चलाए जा रहे असहयोग आंदोलन के परिणाम स्वरुप अपनी नौकरी से इस्तीफा देकर देश को गुलामी की बेड़ियों से मुक्ति दिलाने के लिए सत्याग्रही बन गए अंग्रेजों ने उन्हें जेल में डाल दिया जेल में ही थे तो उनकी माता का देहावसान हो गया।इन दिनों में राजीव नाम से राष्ट्र प्रेम सम्बन्धी  कविताएं लिखते थे।परंतु चौरी चौरा की घटना के बाद गाँधी जी द्वारा असहयोग आंदोलन वापस लिए जाने से पूरा देश स्तब्ध हो गया सन 1921 में पं रामबली मिश्र गुरुकुल कांगड़ी हरिद्वार में बतौर अध्यापक नियुक्त हुए और विद्यालय का वार्डन बन गए उस समय उन्होंने छात्रावास प्रांगण में तिरंगा झंडा फहराया अंग्रेजी  सरकार के आदेश पर विद्यालय के प्रधानाचार्य ने तिरंगा  झंडा हटाने को कहा श्री मिश्र ने त्याग पत्र दे दिया और अपने गाँव  खोपापार आकर  गाँधी की हिंदी भाषा देवनागरी लिपि का प्रचार-प्रसार करने लगे स्वतंत्रता आंदोलन के प्रशिक्षण केंद्र के रूप में अनेक विद्यालय खोला।

 

सन 1940 में अखिल भारतीय चरखा संघ का किया  स्थापना

 

सन 1930 में हिंदी साहित्य विद्यालय खोपापार व 1940 में अखिल भारतीय चरखा संघ की स्थापना किया।यह सारे विद्यालय आवासीय थे क्षेत्र के लोगों के सहयोग से विद्यालय का खर्चा चलता था। इस विद्यालय में महाराष्ट्र तमिलनाडु आंध्र प्रदेश  गुजरात आदि प्रान्त के छात्र आकर शिक्षा ग्रहण करते थे। इस की सराहना महात्मा गाँधी ने 1936 में अपनी हरिजन पत्रिका में इसका पूर्वांचल राष्ट्रीय चेतना केंद्र के रूप में उल्लेख किया था।

 

 

अंग्रेजों ने 1942 में जला दिया पण्डित जी का घर

 

1942 में अंग्रेजों द्वारा पण्डित रामबली मिश्र के यहां खोपापार में आक्रमण कर घर जला दिया गया। साथ ही उनके यहां चल रहे चरखा केंद्र को भी फुक दिया गया।अंत में पण्डित रामबली मिश्र व उनकी पत्नी कैलाशी देवी को गोरखपुर जेल में बन्द कर दिया गया। जेल में ही इन लोगों की मुलाकात बलिया जिले के रामपुर कानूनगो गाँव के निवासी चन्द्रिका प्रसाद वकील व उनकी पत्नी से हुई ।जो दोनों लोग आज़ादी की लड़ाई में जेल में बन्द थे। जेल में ही चन्द्रिका प्रसाद के पत्नी का निधन हो गया। उनके पास दो पुत्र थे बड़े पुत्र को पण्डित रामबली मिश्र ने गोद ले लिया ।जेल से छूटने के बाद 1952 में कैलाशी देवी धुरियापार विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़कर विधायिका बनी दोनों स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी आज नहीं है लेकिन उनका गाँव आज भी उपेक्षा का शिकार बना हुआ है और विकास की राह जो हो रहा है कि कब पलटेंगे मेरे भी दिन। इस गाँव पर शासन प्रशासन का ध्यान हो जाता तो गाँव विकास के पथ पर आगे हो जाता।

 

भारत माँ को आजाद कराने वाले रणबांकुरों की रही शरणस्थली खोपापार गाँव  #-छोटे गांधी के रूप में प्रसिद्ध थे पण्डित रामबली मिश्र   अशोक कुमार------- गोला गोरखपुर।आजादी की लड़ाई में गोरखपुर जिले के दक्षिणांचल में स्थित वर्तमान गोला तहसील क्षेत्र का खोपापार गाँव  ब्रिटिश हुकूमत में छोटा साबरमती के नाम से प्रसिद्ध था और पण्डित  रामबली  छोटे  गाँधी के रूप में प्रसिद्ध थे यह छोटा सा गाँव पूर्वांचल के राष्ट्रीय चेतना का केंद्र बिन्दु बन गया था। इस गांव में क्षेत्र के सभी वीर सपूत दिग्गज कांग्रेसी भारत माँ को स्वतंत्र कराने निकले जाबांज रणबांकुरे आश्रय पाते थे। परंतु आज आजादी मिलने के बाद भी इस गाँव में कुछ भी नहीं है। जिससे इन बलिदानियों के विषय में सही जानकारी मिल सके।अपने विकास की राह जोह रहा यह छोटा सा खोपापार गांव। बताते चलें कि छोटे गाँधी के रूप में प्रसिद्ध  ब्रिटिश हुकूमत को हिलाने देने वाले पण्डित रामबली मिश्र का जन्म उरूवा ब्लाक के माल्हनपार के नजदीक भरवलिया गाँव में हुआ था ।बचपन में पिता के निधन के बाद उनकी माता जी अपने मायके खोपापार आ गयी और पिता के यहां आकर रहने लगी अपने को पीस हारिन का पुत्र कहने वाले श्री मिश्र की प्रारम्भिक शिक्षा बनवारपार  देईडीहा स्कूल से प्राप्त हुई मिडिल की शिक्षा गोला से प्राप्त हुई सन 1920 में जिला परिषदीय विद्यालय बारानगर में अध्यापक नियुक्त हुए ।परन्तु उस समय राजनैतिक हालात के परिणाम स्वरुप उनके मन में भी राष्ट्र प्रेम की तरंगे तरंगित हो उठी।  #- देश को गुलामी की बेड़ियों से मुक्ति दिलाने के लिए सत्याग्रही बने पण्डित रामबली मिश्र  साइमन कमीशन जलियांवाला बाग हत्याकाण्ड तथा महात्मा गाँधी द्वारा चलाए जा रहे असहयोग आंदोलन के परिणाम स्वरुप अपनी नौकरी से इस्तीफा देकर देश को गुलामी की बेड़ियों से मुक्ति दिलाने के लिए सत्याग्रही बन गए अंग्रेजों ने उन्हें जेल में डाल दिया जेल में ही थे तो उनकी माता का देहावसान हो गया।इन दिनों में राजीव नाम से राष्ट्र प्रेम सम्बन्धी  कविताएं लिखते थे।परंतु चौरी चौरा की घटना के बाद गाँधी जी द्वारा असहयोग आंदोलन वापस लिए जाने से पूरा देश स्तब्ध हो गया सन 1921 में पं रामबली मिश्र गुरुकुल कांगड़ी हरिद्वार में बतौर अध्यापक नियुक्त हुए और विद्यालय का वार्डन बन गए उस समय उन्होंने छात्रावास प्रांगण में तिरंगा झंडा फहराया अंग्रेजी  सरकार के आदेश पर विद्यालय के प्रधानाचार्य ने तिरंगा  झंडा हटाने को कहा श्री मिश्र ने त्याग पत्र दे दिया और अपने गाँव  खोपापार आकर  गाँधी की हिंदी भाषा देवनागरी लिपि का प्रचार-प्रसार करने लगे स्वतंत्रता आंदोलन के प्रशिक्षण केंद्र के रूप में अनेक विद्यालय खोला। #-सन 1940 में अखिल भारतीय चरखा संघ का किया  स्थापना  सन 1930 में हिंदी साहित्य विद्यालय खोपापार व 1940 में अखिल भारतीय चरखा संघ की स्थापना किया।यह सारे विद्यालय आवासीय थे क्षेत्र के लोगों के सहयोग से विद्यालय का खर्चा चलता था। इस विद्यालय में महाराष्ट्र तमिलनाडु आंध्र प्रदेश  गुजरात आदि प्रान्त के छात्र आकर शिक्षा ग्रहण करते थे। इस की सराहना महात्मा गाँधी ने 1936 में अपनी हरिजन पत्रिका में इसका पूर्वांचल राष्ट्रीय चेतना केंद्र के रूप में उल्लेख किया था। #- अंग्रेजों ने 1942 में जला दिया पण्डित जी का घर 1942 में अंग्रेजों द्वारा पण्डित रामबली मिश्र के यहां खोपापार में आक्रमण कर घर जला दिया गया। साथ ही उनके यहां चल रहे चरखा केंद्र को भी फुक दिया गया।अंत में पण्डित रामबली मिश्र व उनकी पत्नी कैलाशी देवी को गोरखपुर जेल में बन्द कर दिया गया। जेल में ही इन लोगों की मुलाकात बलिया जिले के रामपुर कानूनगो गाँव के निवासी चन्द्रिका प्रसाद वकील व उनकी पत्नी से हुई ।जो दोनों लोग आज़ादी की लड़ाई में जेल में बन्द थे। जेल में ही चन्द्रिका प्रसाद के पत्नी का निधन हो गया। उनके पास दो पुत्र थे बड़े पुत्र को पण्डित रामबली मिश्र ने गोद ले लिया ।जेल से छूटने के बाद 1952 में कैलाशी देवी धुरियापार विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़कर विधायिका बनी दोनों स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी आज नहीं है लेकिन उनका गाँव आज भी उपेक्षा का शिकार बना हुआ है और विकास की राह जो हो रहा है कि कब पलटेंगे मेरे भी दिन। इस गाँव पर शासन प्रशासन का ध्यान हो जाता तो गाँव विकास के पथ पर आगे हो जाता।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp
Telegram

प्रदेश में 35 करोड़ पौधा लगाने का लक्ष्य- प्रमुख सचिव

प्रदेश में 35 करोड़ पौधा लगाने का लक्ष्य- प्रमुख सचिव बासगाँव गोरखपुर।बांसगांव तहसील मुख्यालय पर पहुंचकर प्रमुख सचिव ने किया पौधारोपण। इस मौके पर प्रमुख

गोला में गोली चलने से फौजी घायल ,जिला अस्पताल रेफर

जान मारने के नियत से  किया तमंचे से फायर घायल हुआ जिला अस्पताल रेफर गोला गोरखपुर।बासगाँव संदेश।गोला थाना क्षेत्र के ग्राम  बरहज निवासी राधेश्याम पुत्र

सिद्धार्थ पाठक खजनी एसडीएम का प्रभार किये ग्रहण

सिद्धार्थ पाठक खजनी एसडीएम का प्रभार किये ग्रहण गोरखपुर। 2019 बैच के पीसीएस अधिकारी सिद्धार्थ पाठक खजनी एसडीएम का प्रभार किए ग्रहण श्री पाठक ने

पशु तस्कर गिरोह के शातिर अभियुक्तगण, पुलिस मुठभेड़ में, अवैध तमंचा के साथ गिरफ्तार

पशु तस्कर गिरोह के शातिर अभियुक्तगण, पुलिस मुठभेड़ में, अवैध तमंचा के साथ गिरफ्तार गोरखपुर।प्रभारी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक नगर कृष्ण बिश्नोई ने अपराधों व

कुंवर सचिन सिंह एसडीएम बांसगांव का प्रभार किए ग्रहण

कुंवर सचिन सिंह एसडीएम बांसगांव का प्रभार किए ग्रहण   गोरखपुर। 2019 बैच के पीसीएस अधिकारी कुंवर सचिन सिंह बांसगांव एसडीएम का पदभार किए ग्रहण

थानेदार और दरोगा को एसएसपी ने किया निलंबित

थानेदार और दरोगा को एसएसपी ने किया निलंबित वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गोरखपुर द्वारा कार्यवाही करते हुए तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक गगहा संजय कुमार सिंह एवं उ0नि0

सिविल जज जूनियर डिवीजन आशीष सिंह के स्थानांतरण पर दी विदाई

सिविल जज जूनियर डिवीजन आशीष सिंह के स्थानांतरण पर दी विदाई   बांसगांव। बांसगांव सिविल बार एसोसिएशन के सदस्यों ने सोमवार को सिविल जज जूनियर

01 करोड़ की फिरौती मांगने वाले अभियुक्तगण गिरफ्तार। बांसगांव

01 करोड़ की फिरौती मांगने वाले अभियुक्तगण गिरफ्तार

01 करोड़ की फिरौती मांगने वाले अभियुक्तगण गिरफ्तार   बांसगांव पुलिस ने एक करोड़ की फिरौती मांगने वाले दो अभियुक्त को गिरफ्तार किया है जिसके

एसडीएम के आदेश पर बंजर की जमीन पर किया गया कब्जा हटा

एसडीएम के आदेश पर बंजर की जमीन पर किया गया कब्जा हटा गोला गोरखपुर। बासगाँव संदेश।गोला तहसील क्षेत्र के नगर पंचायत गोला स्थित ग्राम रानीपुर

बेनीगंज चौकी के जीर्णोद्धार का एसएसपी ने किया उद्घाटन

बेनीगंज चौकी के जीर्णोद्धार का एसएसपी ने किया उद्घाटन गोरखपुर । कोतवाली थाना क्षेत्र के बेनीगंज चौकी के जीर्णोद्धार कार्यक्रम में पहुंचे एसएसपी डॉ विपिन