Home उत्तर प्रदेश राप्ती कटान से कंसासुर-खुटभार बांध पर खतरा मंडराया

राप्ती कटान से कंसासुर-खुटभार बांध पर खतरा मंडराया

राप्ती कटान से कंसासुर-खुटभार बांध पर खतरा मंडराया
– बंधे पर कई जगह दरारें पड़ रही
– ग्रामीण कर बंधे की कर रहे निगरानी
बड़हलगंज। उफनती नदियों की लहरों ने बाढ़ से बचाव के लिए बनाए गए बंधों को कमजोर कर दिया है। राप्ती नदी की बाढ़ व बारिश से कंसासुर-खुटभार बांध की सुरक्षा भी खतरे में दिख रही है।
कछार क्षेत्र के दर्जनों गांवों को बाढ़ से सुरक्षित रखने के लिए कंसासुर-खुटभार बांध का निर्माण कराया गया था। हर साल बंधे की सुरक्षा के नाम पर लाखों रूपये खर्च होते हैं। पूर्व में बंधे की बोल्डर पिचिंग भी कराई गई थी। नदियों का जलस्तर घटने के साथ कटान तेज हो गया है। उफनाती राप्ती की बाढ़ से बंधे की मिट्टी दरक रही है। स्थिति को देखते हुए ग्रामीणों ने अपने तई बंधे की सुरक्षा के लिए बोरी झांगा आदि डाला मगर बंधे पर पानी के बढते दबाव से स्थिति चिंताजनक हो गई है। हालत यह है कि ग्रामीण बंधे की स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। रवि प्रताप सिंह, मुसाफिर सिंह, राजू सिंह, बंका सिंह, रामदवन, राज बलल्म सिंह सहित अन्य ग्रामीणों का कहना है कि बंधे पर कई जगह दरारें पड़ गई है यदि कहीं से भी बंधा टूटा तो दर्जनों गांव पर खतरा बढ़ जाएगा। साथ ही कई गांवों का संपर्क मुख्य मार्ग से कट जाएगा। इस संबंध में बाढ़ खंड के अभियंता राघवेन्द्र सिंह का कहना है कि बंधे के लांचिंग का काम पूरा हो चुका है। स्लोप और पिचिंग का कार्य चल रहा है। बंधे पर कहीं कोई खतरे की बात नहीं है। बारिश के चलते थोड़ी मिट्टी धसक रही है। जिस पर लगातार नजर रखी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here