Home उत्तर प्रदेश इतिहास बनकर रह गया जगदीशपुर गांव

इतिहास बनकर रह गया जगदीशपुर गांव

306
0

इतिहास बनकर रह गया जगदीशपुर गांव

बड़हलगंज। इसे शासन प्रशासन की उदाशीनता कहें या प्रकृति का कोप। कभी 150 घरो से आबाद जगदीशपुर गांव मे बचा संजय पाण्डेय का अंतिम पक्का मकान बुधवार को राप्ती नदी मे विलीन हो गया। भगवान की कृपा रही कि रात मे जब राप्ती ने मकान को टच किया तभी अनहोनी की आशंका से संजय पाण्डेय परिवार को लेकर बाहर निकल आये थे। और सुबह पुरा मकान राप्ती ने एक झटके मे लील लिया।
इस बार राप्ती ने ऐसा कहर बरपाया कि जगदीशपुर इतिहास के पन्नों मे सिमट कर रह गया। राप्ती ने इस बार एक एक कर 35 घरो को अपनी धारा मे समेट लिया। संजय पाण्डेय का मकान राप्ती से थोड़ी दूर था। किन्तु राप्ती की धारा ने इन्हें भी नही बक्सा। संजय कहते हैं कि रात से ही राप्ती ने अटैक शुरू किया था और सुबह सवा सात बजे मेरा व मेरे भाई संगम पाण्डेय दोनो के घरो को काट कर नदी मे विलीन कर लिया।अब हम बेघर हो गयें। परिवार के साथ दूसरे के घर मे जीवन काट रहे हैं।
————————–
न तो मुआवजा मिला हैं और न ही जमीन

संजय और संगम कहते है कि अब तक न तो मुआवजा मिला हैं और न ही जमीन। एक बीघा खेत तो था किन्तु उसमें भी ज्यादातर नदी काट चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here